देश की खबरें | असम में व्यक्ति की मौत के बाद पुलिस और स्थानीय लोगों के बीच आरोप-प्रत्यारोप

गुवाहाटी/नौगांव, दस जून असम के नौगांव जिले में 23 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत के बाद विवाद उत्पन्न हो गया। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाए कि कर्फ्यू के दौरान क्रिकेट खेलते हुए पाए जाने के बाद पुलिस की पिटाई से व्यक्ति की मौत हुई है जबकि पुलिस का कहना है कि वह सट्टेबाजी में संलिप्त था और पुलिस गश्ती दल को देखने के बाद तालाब में कूद गया।

एक अधिकारी ने बताया कि इस घटना के बाद रूपाहीहाट थाने के सामने ग्रामीणों और पुलिस के बीच भिड़ंत हो गई, जिस कारण पुलिस को हवा में गोलियां चलानी पड़ीं और आंसू गैस के गोले दागने पड़े।

नौगांव के पुलिस अधीक्षक आनंद मिश्रा ने कहा कि घटना बुधवार को रूपाहीहाट थाने के तहत गोरेमाटीखोवा गांव में हुई और पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पुष्टि हुई है कि व्यक्ति की मौत डूबने से हुई है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि मृतक शोएब अख्तर सोलमारी गांव का रहने वाला था और अपने परिवार में कमाने वाला इकलौता सदस्य था।

कथित ‘‘पुलिस अत्याचार’’ की निंदा करते हुए रूपाहीहाट के कांग्रेस विधायक नुरूल होदा और धींग एआईयूडीएफ के विधायक अमीनुल इस्लाम ने निष्पक्ष जांच और ‘‘व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या करने वाले आरोपी पुलिसकर्मियों को’’ दंडित करने की मांग की।

अखिल असम अल्पसंख्यक छात्र संघ के महासचिव मिन्नतुल इस्लाम ने शोएब के घर का दौरा करने के बाद ‘‘पुलिसिया कार्रवाई’’ की निंदा की और निष्पक्ष जांच की मांग की। उन्होंने परिवार के लिए मुआवजे की भी मांग की।

नौगांव के पुलिस अधीक्षक ने ‘पीटीआई-’ से कहा, ‘‘सट्टेबाजी गिरोह की सूचना पाकर रूपाहीहाट थाने की पुलिस टीम वहां पहुंची। उस स्थान तक गाड़ी नहीं जा सकती थी और पुलिस गांव की तरफ जा रही थी। उन्हें देखकर समूह भाग गया और उनमें से कुछ तालाब में कूद गए।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)